Selected:

Gandhi Vadh Aur Main: Gandhiji Ki Hatya Ke Sah-Aaropee Ki Manasthiti Ka Chitran Khud Usaki Apne Kalam Se! (Hindi) Paperback – Apr 2015

155.00

Gandhi Vadh Aur Main: Gandhiji Ki Hatya Ke Sah-Aaropee Ki Manasthiti Ka Chitran Khud Usaki Apne Kalam Se! (Hindi) Paperback – Apr 2015

(2 customer reviews)

155.00

‘गांधी-वध और मैं’ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नथूराम गोडसे के भाई और इस षड्यंत्र में शामिल तथा उसके लिए कारावास भोगने वाले गोपाल गोडसे की कलम से उनका पक्ष प्रस्तुत करने वाली पुस्तक है।

 

Add to Wishlist
Add to Wishlist
Category: Tag:

Description

Gandhi Vadh Aur Main

यह नथूराम गोडसे की जीवनी भी है, गोपाल गोडसे की आत्मकथा भी है और साथ ही उनके संस्मरण भी।

गांधीजी की हत्या से जुड़ी तमाम रोमांचक बातें इस पुस्तक में दी गई हैं, जिन्हें पढ़कर गांधीजी से घृणा भी की जा सकती है |

इसे इस रूप में भी देखा जा सकता है कि…प्रार्थना के लिए जाते समय गोडसे की तीन गोलियों ने गांधीजी को नहीं रोका…बल्कि गांधीजी ने ही उन तीन गोलियों को रोका, ताकि वे और न फैलें, किसी और पर न पड़ें और घृणा का उसी क्षण अंत हो जाए !

इसे सुनकर अदालत में उपस्तित सभी लोगो की आँखे गीली हो गई थी और कई तो रोने लगे थे| 

एक जज महोदय ने अपनी टिपणी में लिखा था की यदि उस समय अदालत में उपस्तित लोगो को जूरी बनाया जाता और उनसे फैसला देने को कहा जाता तो निसंदेह वे प्रचंड बहुमत से नाथूराम के निर्दोष होने का निर्देश देते

नाथूराम जी ने कोर्ट में कहा -सम्मान ,कर्तव्य और अपने देश वासियों के प्रति प्यार कभी कभी हमे अहिंसा के सिधांत से हटने के लिए बाध्य कर देता है |

मैं कभी यह नहीं मान सकता की किसी आक्रामक का शसस्त्र प्रतिरोध करना कभी गलत या अन्याय पूर्ण भी हो सकता है।

प्रतिरोध करने और यदि संभव हो तो एअसे शत्रु को बलपूर्वक वश में करना, में एक धार्मिक और नैतिक कर्तव्य मानता हूँ।

मुसलमान अपनी मनमानी कर रहे थे। या तो कांग्रेस उनकी इच्छा के सामने आत्मसर्पण कर दे और उनकी सनक, मनमानी और आदिम रवैये के स्वर में स्वर मिलाये अथवा उनके बिना काम चलाये ,वे अकेले ही प्रत्येक वस्तु और व्यक्ति के निर्णायक थे |

मेने इस घातक रस्ते का अनुसरण किया……मैं अपने लिए माफ़ी की गुजारिश नहीं करूँगा ,जो मैंने किया उस पर मुझे गर्व है . मुझे कोई संदेह नहीं है की इतिहास के इमानदार लेखक मेरे कार्य का वजन तोल कर भविष्य में किसी दिन इसका सही मूल्याकन करेंगे।

जब तक सिन्धु नदी भारत के ध्वज के नीछे से ना बहे तब तक मेरी अस्थियो का विसर्जित मत करना

2 reviews for Gandhi Vadh Aur Main: Gandhiji Ki Hatya Ke Sah-Aaropee Ki Manasthiti Ka Chitran Khud Usaki Apne Kalam Se! (Hindi) Paperback – Apr 2015

  1. Lorena

    These are actually fantastic ideas in concerning blogging. You have touched some fastidious things here.
    Any way keep up wrinting. Thank you for the good writeup.
    It in fact was a amusement account it. Look advanced to far added agreeable from you!

    By the way, how can we communicate? Hi, I
    do think this is an excellent blog. I stumbledupon it
    😉 I will come back yet again since I book marked it. Money and
    freedom is the best way to change, may you be rich and continue to help other people.
    http://tagomi.com/

  2. sky777 online

    Does the employees answer your questions knowledgeably and helpfully?

    Planning the money first can be a misdirection of focus.

    Each of the ingredients living questions or concerns. http://3win8.city/index.php/download/35-sky777

Add a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Vendor Information

  • Store Name: Nikita's Happiness
  • Vendor: Nitin Dutta
  • Address: OPP. KALA KENDRA MAIDAN
    GHADI CHOWK
    AMBIKAPUR 497001
    Chhattisgarh
  • 3.67 3.67 rating from 3 reviews
Close Menu
×

Cart